subhash chandra bose | सुभाषचंद्र बोस

दोस्तों आपने subhash chandra bose का नाम अवश्य सुना ही होगा कि subhash chandra bose देश को आजाद करने के लिए कितने बड़े-बड़े कार्य किए हैं और subhash chandra bose  देश की आजादी के लिए अहम व्यक्ति है तो हम आप लोगों को इस आर्टिकल में subhash chandra bose in hindi के बारे में पूरी जानकारी बताई है ।


subhash chandra bose in hindi

subhash chandra bose
subhash chandra bose


सुभाष चंद्र बोस (subhash chandra bose) का जन्म 23 जनवरी को कटक उड़ीसा में हुआ था । (23 जनवरी को पराक्रम दिवस के रूप में मनाया जाता है) सुभाष चंद्र बोस के पिता का नाम जानकीनाथ बोस और माता का नाम प्रभावती था उनकी पत्नी का नाम  एमिली सेंकल (Emilie Schenkl) था । सुभाष चंद्र बोस के पिता जी एक मशहूर वकील थे।  सुभाष चंद्र बोस एक सुखी परिवार से थे इसीलिए इनकी शिक्षा अच्छे से हो सकी। बोस जी कलकत्ता के स्कॉटिश चर्च कॉलेज से उन्होंने दर्शनशास्त्र में स्नातक की डिग्री हासिल की थी। सुभाष चंद्र बोस जलियांवाला नरसंहार देखकर इनका मन विचलित हो गया और उन्होंने 1921 में प्रशासनिक सेवा से अपना इस्तीफा दे दिया।

इसके बाद सुभाष चंद्र बोस महात्मा गांधी जी के संपर्क में आए और यह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हुए सुभाष चंद्र बोस देशबंधु चितरंजन दास के साथ आए और सुभाष चंद्र बोस के राजनीतिक गुरु चितरंजन दास बने । सुभाष चंद्र बोस की जीवनी Hugh Toye (हुग टोय) ने द स्प्रिंगगिंग टाइगर ( The Springing Tiger) के नाम से लिखी।

1928 में कांग्रेस नें साइमन कमीशन का विरोध किया। 1928 में कांग्रेस का वार्षिक अधिवेशन मोतीलाल नेहरू की अध्यक्षता में कोलकाता में हुआ था । महात्मा गांधी उस समय पूर्ण स्वराज की मांग से सहमत नहीं थे लेकिन सुभाष चंद्र बोस पूर्ण स्वराज की मांग से पीछे हटना नहीं चाहते थे। 1929 में इन्होंने इंडिपेंडेंस लीग की स्थापना की।

1938 में कांग्रेश के हरिपुरा अधिवेशन में सुभाष चंद्र बोस अध्यक्ष बने तथा 1939 में कांग्रेस के त्रिपुरी अधिवेशन में पट्टाभि सीतारमैया को 200 मतों से हराकर सुभाष चंद्र बोस पूरा कांग्रेश के अध्यक्ष बने । परंतु मतभेद हो जाने से सुभाष चंद्र बोस ने 29 अप्रैल 1939  को कांग्रेश के अध्यक्ष पद से अपना इस्तीफा दे दिया और उन्होंने 1939 में ही फारवर्ड ब्लाक की स्थापना की। 1942 में जर्मनी में आजाद हिंद रैलियों की शुरुआत की तथा 1943 में उन्होंने आजाद हिंद सरकार की स्थापना सिंगापुर में  की थी । उन्होंने 1943 में ही जापान द्वारा सौपें गये अंडमान और निकोबार का नाम बदलकर शहीद और स्वराज द्वीप रखा।

सुभाष चंद्र बोस के नारे

जय हिंद, दिल्ली चलो, तुम मुझे खून दो मैं आजादी दूंगा, अंग्रेजों ने वह गोली नहीं बनाई जो मुझे मार सके। और इन्होंने इंकलाब जिंदाबाद भगत सिंह जिंदाबाद मेरे का एक ही अर्थ कहा।

6 जुलाई 1944 को आजाद हिन्द रेडियो पर अपने भाषण के माध्यम से गांधी को सम्बोधित करते हुए इन्होंने महात्मा गांधी को राष्ट्रपिता कहां। जबकि सुभाष चंद्र बोस को महात्मा गांधी ने देशभक्तों का देशभक्त कहा तथा हिटलर ने इन्हें नेता की उपाधि दी जबकि देशनायक की उपाधि रविंद्र नाथ टैगोर दी।

सुभाष चंद्र बोस की पुस्तकें- The Indian Struggle, An Indian pilgrim,  My Struggle.

subhash chandra bose की मृत्यु

subhash chandra bose in hindi
subhash chandra bose in hindi


सुभाष चंद्र बोस की मृत्यु आज भी संशय का विषय बना हुआ है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि 18 अगस्त 1945 को एक विमान दुर्घटना में उनकी मृत्यु ताईवान में हो गयी थी परंतु उसका दुर्घटना का कोई साक्ष्य नहीं मिल सका। इसी कारण से सुभाष चंद्र बोस की मृत्यु का विषय संशय बना।

subhash chandra bose स्मारक एवं हवाई अड्डा

सुभाष चंद्र बोस स्मारक एवं सुभाष चंद्र बोस हवाई अड्डा कोलकाता में है और इस हवाई अड्डा को दमदम हवाई अड्डा के नाम से भी जानते हैं।

आजाद हिंद फौज की स्थापना

आजाद हिंद फौज की स्थापना का सर्वप्रथम विचार कैप्टन मोहन सिंह का था जबकि इसकी स्थापना 1942 में रासबिहारी बोस ने की थी 1945 में आजाद हिंद फौज के सैनिकों पर दिल्ली के लाल किले में मुकदमा चलाया गया और इनकी तरफ से भूलाभाई देसाई ने वकालत की थी आजाद हिंद फौज के प्रथम सेनापति कैप्टन मोहन सिंह थे। 1942 में सुभाष चंद्र बोस ने फ्री इंडियन वीजन की स्थापना की तथा राजा राम मोहन राय को युग दूत कहा। सुभाष चंद्र बोस ने गांधी जी की दांडी यात्रा की तुलना नेपोलियन की पेरिस यात्रा तथा मुसोलनी की रूम यात्रा से की है।

दोस्तों आपको First generation of computer (प्रथम पीढ़ी के कंप्यूटर) व second generation computer ( द्वितीय पीढ़ी कंप्यूटर) के बारे में कुछ जानकारी चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक को के माध्यम से आप प्राप्त कर सकते ।

Read All- First generation of computer (प्रथम पीढ़ी के कंप्यूटर)

Read All- Second generation computer ( द्वितीय पीढ़ी कंप्यूटर)

Post a Comment

0 Comments