आउटपुट डिवाइस क्या है ? (Output Device in Hindi) | What is Output Device

आउटपुट डिवाइस क्या है ? (Output Device in Hindi) 

जय हिंद दोस्तों यदि आप एक छात्र हैं या आप किसी जॉब के लिए कंप्यूटर के पढ़ाई करना चाहते हैं या फिर कंप्यूटर के पढ़ाई कर रहे हैं तो आप लोगों को अधिकतर कंप्यूटर के आउपुट डिवाइस के बारे में सुनने को अवश्य मिलता होगा परंतु क्या आप लोग जानते हैं की Output Device क्या हैं?  और इन Output Device के कंप्यूटर में कौन-कौन से कार्य तथा इनका उपयोग कहां पर होता है। अधिकतर बहुत से छात्रों को Output Device के बारे में पता ही नहीं होता है की Output Device क्या है? आप लोगों को भी Output Device की जानकारी नहीं है तो कोई बात नहीं क्योंकि आज हम अपने इस आर्टिकल मैं आप लोगों के लिए Output Device से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी लेकर आया हूं। जैसे What is Output Device in Hindi, What Is Output Device, Output Device for computers examples, Output Device examples. यदि आप Output Device की पूरी जानकारी बेहद सरल और स्पष्ट शब्दों में चाहते हैं तो आप हमारे इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ें तो आइए हम बिना देरी किए Output Device को शुरू करते हैं और जान लेते हैं कि what is Output Device (आउटपुट डिवाइस क्या है?)

आउटपुट डिवाइस क्या है ? What is Output Device

Output devise
output device in hindi

 
Output Device वे Device होते हैं जो कि कंप्यूटर के साथ कार्य करके यूजर को परिणाम भी दिखाते हैं। उन्हें आउटपुट डिवाइस कहा जाता है। कंप्यूटर के पास कई प्रकार के Output Device होते हैं।

कंप्यूटर पर काम करने के लिए कई ऐसी डिवाइस की जरूरत पड़ती है। जिनकी सहायता से कंप्यूटर आपको परिणाम (Result)  दिखाता है और जिन डिवाइस सहायता से यूजर को परिणाम देख सकता है। वे डिवाइस Output Device कहलाते हैं, और कंप्यूटर में हर जगह आउटपुट डिवाइस का कार्य बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। क्योंकि आउटपुट डिवाइस के बिना हम कोई भी परिणाम नहीं देख सकते ।

आउटपुट डिवाइस के उदाहरण---

(1) Monitor
(2) Speaker
(3) Printer
(4) PROJECTOR

Types of output devices
types of output devices


Types of output devices  (आउटपुट डिवाइस के प्रकार)

(1) Monitor
 

कंप्यूटर का सबसे महत्वपूर्ण भाग मॉनिटर को माना जाता है। मॉनिटर के बिना हमारा  कंप्यूटर अधूरा हो जाता है, और कंप्यूटर का ऐसा कोई भी काम नहीं है जो मॉनिटर के बिना किया जा सके क्योंकि मॉनिटर कंप्यूटर का सबसे महत्वपूर्ण उपकरण होता है जब भी हमें कोई परिणाम देखना होता है तो सर्वप्रथम वह परिणाम स्क्रीन के द्वारा देखा जाता है और मॉनिटर एक प्रकार की स्क्रीन सी होती है जिसे आउटपुट डिवाइस कहते हैं ।

Monitor टेक्नोलोजी के अनुसार दो प्रकार के होते हैं--

(1) CRT (Cathode Ray Tube)
(2) LCD (Liquid Cristal Display)


(1) CRT (Cathode Ray Tube)--- इसमें Cathode Ray Tube होती हैं जो इसमें कैथोड किरणों फ्लाॅरसीन स्क्रीन पर गिरती हैं और डिफ्लेक्ट होकर पिक्चर बनाती हैं यह भी दो प्रकार की होते हैं जैसे--

यह भी पढ़े-- (1) what is input devices ( इनपुट डिवाइस क्या है?


(a) Monochrome ( मोनोक्रोम) --- मोनोक्रोम ब्लैक एंड वाइट (Black and white) पिक्चर दिखाता है

(b) Color ( कलर) -- इसमें तीन प्रकार के फास्फोरस जोकि लाल हरा और नीला रंग होने के कारण पिक्चर को Color full बनाता है।

(2) LCD (Liquid Cristal Display)--- Liquid Cristal Display टेक्नोलॉजी लाइट को माड्यूलेट करके पिक्चर बनाती है फिल्म ट्रांजिस्टर मैट्रिक्स भी पिक्चर बनाती है परंतु मैट्रिक्स से लाइट नहीं निकलती है लेकिन लाइट इमिटिंग डायोड मी लाइट यहीं से निकलती है इसीलिए पिक्चर की क्वालिटी बहुत अधिक अच्छी होती है।

(2) Speaker

जिस तरह मॉनिटर एक आउटपुट डिवाइस है ठीक उसी प्रकार से स्पीकर भी एक Output डिवाइस है। जिसका  उपयोग लगभग सभी कंप्यूटर Users करते हैं स्पीकर एक Hardware डिवाइस होती है जिसका प्रयोग कंप्यूटर में Sound को Generate अर्थात ध्वनि उत्पन्न करने के लिए किया जाता है। इसका उपयोग मल्टीमीडिया एप्लीकेशन में होता है जिससे कोई भी साउंड या म्यूजिक को बहुत ही आसानी से सुना जा सकता है।

(3) Printer

Printer एक अन्य महत्वपूर्ण आउटपुट डिवाइस हैं. जिसका उपयोग Computer में Stored Digital Data को कागज पर मुद्रित किया जाता हैं. जब डाटा कागज पर छ्प जाता हैं तो इसे Hard Copy कहते हैं. और कम्प्यूटर में रहने पर इसे Soft Copy कहा जाता हैं.

हम कम्प्यूटर में उपलब्ध डाटा को कई प्रकार और Quality में छाप सकते हैं. इसके लिए हमे अलग-अलग प्रकार के Printers की जरूरत पडती हैं. जिनके नाम नीचे दिये जा रहे हैं--

(1) Dot Matrix Printer
(2) Line Printer
(3) Laser Printer
(4) Inkjet Printer
(5) 3D Printer


इन सभी प्रकार के प्रिंटर्स के बारे में आप हमारे इस Article  में पढ़ सकते हैं की प्रिंटर क्या होते हैं ? ( What is printer.) क्योंकि हमने प्रिंटर के बारे में विस्तार पूर्वक से वर्णन किया है।

(1) Dot Matrix Printer --- डाटा मैट्रिक्स प्रिंटर इंपैक्ट प्रिंटर का ही एक प्रकार होता है जो ink रिबन पर पिन से स्ट्राइक कर करैक्टर प्रिंट करता है । इसमें प्रत्येक पिन एक डाॅट छोड़ती है और इन डांट के कंबीनेशन से कोई अक्षर या आकार बनता है क्योंकि डाटा मैट्रिक्स प्रिंटर अब ज्यादा इस्तेमाल नहीं किया जाता है इनका इस्तेमाल केवल वहीं पर किया जाता है जहां बहुत अधिक मात्रा में पेज प्रिंट करने का कार्य होता है।

(2) Line Printer--- इस प्रकार के प्रिंटर एक ही समय में पूरी लाइन को प्रिंट करते हैं यह प्रिंटर बहुत तेज गति से काम करते हैं । इनकी  कार्य करने की क्षमता 150 से 2500 लाइन प्रति मिनट के बीच होती है।

लाइन प्रिंटर के तीन प्रकार के होते हैं

(1) बैंड प्रिंटर
(2) चैन प्रिंटर
(3) ड्रम प्रिंटर


(3) Laser Printer---Laser Printer कंप्यूटर प्रिंटर का एक ऐसा प्रकार है इसमें एक बेलनाकार ड्रम होता है जो तीव्र गति से किसी सादे कागज पर उच्च गुणवत्ता वाले अक्षर और चित्र प्रिंट कर देता है है प्रिंट किए जा रहे परिणामों की गुणवत्ता में अत्यधिक निखार लाने के लिए लेजर प्रिंटर का प्रयोग किया जाता है।

Laser Printer का आविष्कार 1969 में अनुसंधानकर्ता गैरी स्टार्ट वेदर द्वारा किया गया। पहला Laser Printer 1984 में तैयार HP Laser Jet था जिसकी गति 8 पेज प्रति मिनट थी।

(4) Inkjet Printer--- इंकजेट प्रिंटर इसमें जट्ट के माध्यम से आयोनाइज्ड इंक स्प्रे मैग्नेटिक प्लेटो से होता हुआ शीट या पेपर पर डॉक्यूमेंट इमेज तथा सिंबल बनाता है । इस प्रिंटर से हाई क्वालिटी प्रिंटिंग की जाती है । इसमें 300 डीपीआई या अधिक की प्रिंट क्वालिटी में प्रिंट किया जा सकता है।

(5) 3D Printer---- 3D प्रिंटर एक प्रिंट करने वाली मशीन होती है, जिसके द्वारा प्रिंट करने के लिए एक प्रोसेस को किया जाता है, जिसे additive processes भी कहा जाता है, इस प्रोसेस में किसी भी वस्तु या ऑब्जेक्ट का थ्री डायमेंशनल सॉलिड ऑब्जेक्ट्स को बनाया जाता है| ऑब्जेक्ट के निर्माण में कई लेयरों को एक के ऊपर एक रखा जाता है| यह लेयर तब तक रखी जाती जब तक वह वस्तु या ऑब्जेक्ट उत्पन्न न हो जाए, इसमें आप प्रत्येक लेयर को देख सकते है|

3D Printer का आविष्कार 1984 में चक हल  (chuck hull) के द्वारा किया गया था। 3D Printer वस्तुओं के निर्माण के लिए मिश्र धातु, पॉलिमर, प्लास्टिक और खाद्य सामग्री जैसी सामग्रियों का उपयोग करते हैं।

(4) PROJECTOR

आप सभी ने प्रोजेक्टर के बारे में सुना भी होगा और देखा भी जरूर होगा लेकिन क्या आपको पता हैं! प्रोजेक्टर भी एक Output Device होता है। प्रोजेक्टर का उपयोग उसको दी गयी कमाण्ड या file को चित्र या वीडियो के रूप में एक प्रोजेक्शन स्क्रीन पर प्रदर्शित करके दर्शकों को दिखाने में किया जाता है।

Projector उसके उपयोग के आधार पर निम्न प्रकार के होते हैं जैसे---

(1) Video Projector
(2) Movie Projector
(3) Slide Projector


हमें उम्मीद है कि आप लोगों को output devices से संबंधित जो भी समस्या थी। वह समाप्त हो गई होगी और यदि आप कंप्यूटर से संबंधित अधिक जानकारी चाहते हैं तो इसके लिए हम आपके लिए अपने यूट्यूब चैनल R Truth Point पर कंप्यूटर से संबंधित वीडियो लाते हैं जिसका लिंक नीचे दिया गया है आप वहां पर जाकर चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं और कंप्यूटर से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी आप लोग इकट्ठा कर सकते हैं।

YouTube video 

(1) first generation of computer---https://youtu.be/dKEjwb00EMA

(2)generation of computer--https://youtu.be/nmXhCHGp04

आर्टिकल पढ़ने के लिए --- धन्यवाद

 


Post a Comment

0 Comments