Operating System for Desktop and Laptop- डेस्कटॉप और लैपटॉप के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम | what is Operating System

Operating System for Desktop and Laptop (डेस्कटॉप और लैपटॉप के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम)

इस आर्टिकल में हम जानेंगे Operating System for Desktop and Laptop (डेस्कटॉप और लैपटॉप के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम) के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम क्या क्या होते हैं और इनका कार्य क्या-क्या होता है? Operating System in computer और Operating System in Laptop क्या है तो पूरी जानकारी के लिए आप लोग हमारे इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़िए ।

Operating System for Desktop and Laptop
Operating System for Desktop and Laptop 

कुछ महत्वपूर्ण ऑपरेटिंग सिस्टम जिनका प्रयोग डेस्कटॉप(Desktop) और लैपटॉप (Laptop) दोनों पर किया जाता है जो नीचे दिए गए हैं-

(1) MSDOS (Microsoft Disk Operating System)
(2) Wnidows Operating System
(3) Linux Operating System
(4) Ubuntu Operating System
(5) Chrome OS (Chrome Operating System)
(6) SKY OS (SKY Operating System)


Operating System for Desktop and Laptop in hindi - डेस्कटॉप और लैपटॉप के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम

(1) MSDOS (Microsoft Disk Operating System)

MS DOS एक ऑपरेटिंग सिस्टम है जो हार्ड डिस्क ड्राइव (Hard Disk Drive) से चलता है इसे टिम पैटरसन (Tim Patterson) द्वारा डेवलप किया गया था। और इसे अगस्त 1981 में माइक्रोसॉफ्ट द्वारा लांच किया गया था MS DOS का पहला वर्जन (Version) DOS 1.0, सन् 1981 में आया था और अंतिम वर्जन  (Last Version) सन् 2000 मे लांच किया गया। यह PC (Personal Computer) के लिए सिंगल यूजर और सिंगल टास्किंग ऑपरेटिंग सिस्टम है। माइक्रोसॉफ्ट ऑपरेटिंग सिस्टम का उपयोग अनेक कमांड लाइन डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम का वर्णन करने के लिए भी किया जाता है।

(2) Wnidows Operating System

Windows को माइक्रोसॉफ्ट कंपनी द्वारा विकसित किया गया था। विंडोज  ऑपरेटिंग सिस्टम को Microsoft corporation के द्वारा एक प्रसिद्ध IT कंपनी ने डिवेलप किया था। विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम एक Graphical User Interface (GUI) का सबसे प्रसिद्ध ऑपरेटिंग सिस्टम है Microsoft Company ने बाजार में  GUI  की डिमांड को देखकर ही विंडो ऑपरेटिंग सिस्टम को लांच किया था। इसका काम कंप्यूटर में ग्राफिकल आईकॉन को दिखाने का है। यह भी एक मल्टी टास्किंग नेटवर्क सपोर्टेड ऑपरेटिंग सिस्टम है विंडोज के कई वर्जन आए सरवर तथा स्टैंड अलोन दोनों के लिए अलग-अलग ऑपरेटिंग सिस्टम है।

History of Windows operating system ( विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम का इतिहास)


माइक्रोसॉफ्ट कंपनी ने साल 1981 मे विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम का ऐलान किया गया था। 1983 में बिल गेट्स में विंडो ऑपरेटिंग सिस्टम की घोषणा की और साल 1985 में विंडो का सबसे पहला वर्जन मार्केट में लांच किया गया था। सबसे ज्यादा प्रसिद्ध Window XP हुआ। Window XP को साल 2001 में लांच किया गया था । यह बहुत सफल रहा इसने कंप्यूटर की दुनिया में मानो आग ही लगा दिया हो। क्योंकि इसे चलाना बहुत ही सरल था। Window XP के बाद windows 7 और windows 10 ने ही सफलता प्राप्त की। Window 10 माइक्रोसॉफ्ट का सबसे लेटेस्ट वर्जन था और इसी मार्केट में लॉन्च करने के बाद कंपनी ने घोषणा कर दिया कि माइक्रोसॉफ्ट Windows 10 ही विंडो का आखरी वर्जन है।



(3) Linux Operating System

लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम 1991 में लाइनस टॉर्वाल्ड्स (Linus Torvalds) ने बनाया था। लाइनस टॉर्वाल्ड्स (Linus Torvalds) का जन्म 28 दिसंबर 1969 को फिनलैंड में हुआ था। लिनक्स ओपन सोर्स कोड ऑपरेटिंग सिस्टम का उदाहरण है । मैं मल्टीटास्किंग होती है और इसमें वर्चुअल मेमोरी, शेयर्ड लाइब्रेरीज, डिमांड लोडिंग, मेमोरी मैनेजमेंट, TCP/IP नेटवर्किंग और अन्य फीचर्स भी शामिल होते हैं। जो वर्तमान समय में पूर्ण विशेषताओं वाले कमर्शियल ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ मौजूद हैं। इसमें यूनिक्स ऑपरेटिंग सिस्टम कि सभी विशेषताएं भी मौजूद होती हैं। आमतौर पर दो प्रकार के ग्राफिकल यूजर इंटरफेस के साथ प्रदान किया जाता है। एक KDE और दूसरा GNOME। और इसके अन्य इंटरफ़ेस जैसे ही कमांड इंटरप्रेटर आदि भी उपलब्ध होते हैं।

(A) कर्नल (Kernel)

कर्नल लिनक्स का बहुत ही मुख्य भाग है यह ऑपरेटिंग सिस्टम के सभी प्रमुख एक्टिविटी के लिए जिम्मेदार होता है। यह विभिन्न मॉड्यूल के होते हैं आधारभूत हार्डवेयर के साथ डायरेक्टली इंटरेक्ट करता है। एक कर्नल हार्डवेयर लेबल जैसे सीपीयू (CPU), रैम (RAM), डिस्क (DISK), नेटवर्क (Network) आदि के साथ एक लो-लेवल के प्रोग्राम का इंटरफेस होता है जो एप्लीकेशन इन्हीं के ऊपर चलते हैं।

(B) सिस्टम लाइब्रेरी (System Library)

सिस्टम लाइब्रेरी एक स्पेशल फंक्शन का प्रोग्राम होते हैं जिसका उपयोग करके हम एप्लीकेशन प्रोग्राम या सिस्टम यूटिलिटी कर्नल पिक्चर को एक्सेस करते हैं यह लाइब्रेरी ऑपरेटिंग सिस्टम के अधिकांश फंक्शनैलिटी को इंप्लीमेंट करते हैं और इन्हें कर्नल मॉड्यूल के कोड को एक्सेस राइट्स की कोई भी जरूरत नहीं होती है।

(C) Shell (सेल)

एक कमान इंटरप्रेटर है जो कि आपके टर्मिनल एम्युलेटर या सेल स्क्रिप्टस  ( टेक्स्ट फाइल ए जो कमांड्स को कनेक्ट करते हैं) बैच मोड प्रोसेस में इंटर के जाने वाले कमांड को भी प्रोसेस करता है।

यह भी पढ़े-input devices क्या है ?


(4) Ubuntu Operating System

उबंटू ऑपरेटिंग सिस्टम एक पूर्ण लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम है या किसी व्यक्ति समुदाय और प्रोफेशनल प्रयोग हेतु फ्री में उपलब्ध है उबंटू में अनुवाद और एक्सेसिबिलिटी इंफ्रास्ट्रक्चर बहुत अच्छे से शामिल हैं जो कि निशुल्क सॉफ्टवेयर समुदाय को प्रस्तुत करता है ताकि उबंटू ऑपरेटिंग सिस्टम को अधिक से अधिक लोगों द्वारा उपयोग करने योग्य बनाया जा सके उबंटू पूरी तरह से ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट के सिद्धांतों के लिए प्रतिबद्ध है।

उबंटू ऑपरेटिंग सिस्टम (Ubuntu Operating System) को 20 अक्टूबर 2004 में UK कंपनी Canonical Ltd.के अफ्रीकी मालिक Mark Richard Shuttleworth ने Free Project के रुप में इसे बनाया था। इसे Debian Linux के आधार पर बनाया गया था। उस वक्त Free Software खासकर के Operating System ना के बराबर हुआ करता था। लेकिन Ubuntu के बाद बहुत सारे Free Software या Linux पर आधारित Operating System बनाये गये। क्योंकि Ubuntu भी समय के साथ लोकप्रिय होने लगा था।

उबंटू ऑपरेटिंग सिस्टम (Ubuntu Operating System) 6 महीने के बाद एक नया अपडेट लाता रहता है। उबंटू एक अफ्रीकी शब्द है। उबंटू को इसी के आधार पर बनाया और विकसित किया गया। Ubuntu Operating System से कंपनी अपने Paid Professional Support से पैसे कमाती है।

(5) Chrome os (Chrome Operating System)

क्रोम ओएस Google द्वारा विकसित एक लिनक्स-आधारित ऑपरेटिंग सिस्टम है जो विशेष रूप से ऑनलाइन Web applications के साथ काम करने के लिए है। 7 जुलाई 2009 को अपने प्रारंभिक लॉन्च के बाद, Google ने ऑपरेटिंग सिस्टम को क्रोमियम नाम से 19 नवंबर, 2009 को एक ओपन सोर्स प्रोजेक्ट बना दिया। Chrome OS केवल उस कंप्यूटर पर चलाया जा सकता है। जो इसके लिए डिज़ाइन किया गया है । विंडोज या अन्य ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए डिज़ाइन किया गया।

क्रोम ओएस Gentoo Linux पर आधारित एक लाइट ऑपरेटिंग सिस्टम है जिसे गूगल द्वारा डिज़ाइन और विकसित किया गया है। क्रोम ओएस विंडोज और मैक ओएस की तुलना में बहुत लाइट है। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह ओएस क्रोम ऐप्स और वेब-आधारित प्रक्रियाओं के आसपास केंद्रित है।

यह मुख्य यूजर इंटरफेस के रूप में गूगल क्रोम वेब ब्राउज़र का उपयोग करता है। क्रोमियम ओएस के समान, Chrome OS प्रोपराइटरी सॉफ्टवेयर है। Chrome OS क्लाउड-आधारित है। इसलिए यह मुख्य रूप से वेब अनुप्रयोगों में चलता है। वेब एप्लिकेशन और यूजर डेटा दोनों क्लाउड में रहते हैं। विंडोज़ 10 और मैक ओएस के विपरीत, आप अपने क्रोमबुक पर थर्ड पार्टी सॉफ़्टवेयर इंस्टॉल नहीं कर सकते। आपको इसके लिए सभी ऐप्स गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध हैं।

(6) Sky OS (SKY Operating System)

Sky OS ( स्काई आपरेटिंग सिस्टम ) एक बंद प्रोटोटाइप वाणिज्यिक, मालिकाना , ग्राफिकल डेस्कटॉप ऑपरेटिंग सिस्टम है जो x86 कंप्यूटर आर्किटेक्चर के लिए लिखा गया है । 30 जनवरी, 2009 तक इसके विकास को फिर से शुरू करने की कई योजना की गई इसकी योजना शुरू नहीं होने के कारण इसका विकास रुका हुआ था। अगस्त 2013 में, डेवलपर रॉबर्ट सजेलेनी (developer Robert Szeleney) ने Sky OS वेबसाइट पर एक सार्वजनिक बीटा जारी करने की घोषणा की। यह सार्वजनिक उपयोगकर्ताओं को परीक्षण के लिए और सिस्टम को वैकल्पिक रूप से स्थापित करने के लिए SKY Operating System की एक लाइव सीडी डाउनलोड करने की अनुमति देता है। Sky OS में डबल बफरिंग और पारदर्शिता सहित डेस्कटॉप कंपोजिटिंग के समर्थन के साथ एक एकीकृत ग्राफिक्स सबसिस्टम है। स्काईओएस जीयूआई सिस्टम-वाइड माउस जेस्चर की भी अनुमति देता है ।

हमें उम्मीद है कि आपको या आर्टिकल Operating System for Desktop and Laptop (डेस्कटॉप और लैपटॉप के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम) अवश्य समझ में आया होगा और इसी तरह की कंप्यूटर संबंधी जानकारी के लिए हमारे वेबसाइट पर बने रहे आप लोग इसे अपने दोस्तों तक शेयर करें इससे रुको भी कुछ मदद मिल सकेगी।

Post a Comment

0 Comments